रविवार, जनवरी 24, 2010

व्यंग्य -बसंत में बीमारी




व्यंग्य
बसंत में बीमारी
वीरेन्द्र जैन
कभी कभी प्रभु की मति भी मारी जाती है। जैसे कोई ढीठ मक्खी बार- बार उड़ाने पर भी किसी चरित्रवान व्यक्ति की नाक पर बैठने की गुस्ताखी करती है और चरित्रवान व्यक्ति को इसके अलावा दूसरा कोई रास्ता नही सूझता कि मक्खी को मार दिया जाए इसी तरह मति भी मारी जाने के लिए मजबूर हो जाती है। अब मति चाहे प्रभु की हो, प्रभुवर्ग की हो या आम जनता की, जब मारी जाना होती है सो मारी ही जाती है। जबसे मैंने यह सुना है कि उसकी इच्छा के बिना पत्ता भी नहीं हिलता तभी से मैं अपने सारे दोष उसी पर मढ़ देने में सिद्वहस्त हो गया हूँू।

अब यह भी कोई बात हुई कि वह मुझे बीमारी दे और वह भी बसंत के मौसम में, यह उसकी मति मारे जाने का लक्षण नहीं तो और क्या है ? अरे भला आदमी बीमारी को कुछ अच्छा सा अवसर देखकर नही दे सकता था! कि जब दफ्तर में ज्यादा काम हो तब दे दे,े जब बच्चे छुट्टियों में पहाड़ घुमाने की जिद कर रहे हों तब दे दे। ऐसे रिश्तेदारों के यहॉ विवाह समारोह हो जहॉ बड़ा खर्च करना जरूरी होता है तब दे देता। लोग इस्तीफा देने तक में अवसर की अनुकूलता का ध्यान रखते हैं और यह प्रभु है कि बीमारी देने में भी वक्त नही देखता। सोचता हूँ कि मोनोपली का लाभ उठाने में जब सभी माहिर हैं तो प्रभु ही क्यों पीछे रहे, वह भी राशन के दुकानदार, विद्युत सरकारी टेलीफोन विभाग की तरह अपनी मनमानी करता रहता है।

वैसे बसंत में लोग बनावटी बीमार दिखने में भी आनंदित महसूस करते है, कोई प्रेमरोगी होने का ढोग करता है तो किसी का दिलो जिगर चाक- चाक हुआ रहता है, भले ही उसमें से रक्त की एक बूंद भी न टपकती हो। कोई अपना बैंक बेलेन्स, दुकान, जमीन, बीमा, का पैसा आदि छोड़कर शेष सारा जीवन न्यौछावर करता नजर आता है। जैसे कि जीवन नहीं नाक हो जिसे जब चाहे छिनका जा सके। कुछ घायल होने के लिए खुद सलाह देते हैं कि '' सीधा तो कर लो तीर को '' और कुछ कहते हैं कि
'' आज अपने हाथों से क्यों न कत्ल हो जाएँ,
अब तो मेरे कातिल के हाथ थक गए होंगे। ''

वैसे मैं इस बासंती मौसम में भी इनमें से किसी कोटि का बीमार नहीं था। अब चाहे आप मुझे रस हीन, हृदयहीन, निरा बौद्विक भौतिक प्राणी के रूप में उपेक्षा से देखें पर में तो अपने और जग के सारे दोषों के लिए प्रभु को जिम्मेवारी सौंपकर ऐसे खड़ा हो जाता हूॅ जैसे दूध की थैली में से दूध निकाल लेने और आखिरी बूॅद तक झटक लेने के बाद वह उजली पारदर्शी होकर कचरेदान में शोभायमान होती है।

मैं इस देश के कर्मचारियों, अधिकारियों और राजनेताओं की तरह बनावटी बीमार भी नही था जो डाक्टरों को स्वस्थ्य करने की जगह बीमार करने के लिए पैसे देते हैं। मैं बीमार था और प्रभु की कृपा से सचमुच बीमार था। सुइयॉ दिल में चुभने की जगह बाहों और कूल्हे पर चुभाई जा रहीं थीं। छाती खोलकर सीने पर तीर खाने की जगह गोलियॉ खा रहा था और वह भी मुँह के रास्ते। अधरों का रस पीने की जगह मौसम्बी का दूसरे के द्वारा निकाला हुआ रस पी रहा था। लोग अस्पताल में मुझे देखने आते, तो मुझे कम नर्सो को ज्यादा देखते। नर्सें शायद उनके हृदय में पीड़ा पहुँचा रही हों पर मुझे तो वे निरंतर मेरे कुल्हों में बदल बदलकर सुइयॉ चुभाने की पीड़ा पहुँचा रही थीं। बांसती मौसम में जब दिलों में हूक उठती है, मेरे पेट में गैस बन रही थी जिसका इस्तेमाल ईधन के रूप में भी संभव नही होता। जब कलियों के चटककर फूल बनने का समय था तब मेरा सिर चटक रहा था और पेट फूल रहा था। जब ऑखों में गुलाबी डोरे उभरने का समय था मेरी ऑखे दर्द और बुखार में लाल हो रही थीं, जब नायक से नायिका अंग अंग में पीर होने का वर्णन गा गाकर कर रही हो तब मैं उसी पीर का वर्णन कराह- कराहकर कर रहा था। जब कवियों - रसिकों के मन मचल रहे होंगे, तब मेरा जी मिचला रहा था। जब असंख्य देहैं पुष्प गंधों से महक रही थीं तब मैं पसीने में मिली एंटी बायटिक की दुर्गध से सराबोर पड़ा था। जब लोग चांदनी में नहाने को कपड़े उतार रहे थे तब में नगर निगम के द्वारा रिसाए गए प्रदूषित जल से भी स्नान कर सकने की हिम्मत नही जुटा पा रहा था। जब साहित्यप्रेमियों को ईसुरी, घनानंद, जयदेव और कालिदास याद आ रहे थे तब में एंटी बायटिक एंटीसेप्टिक, एंटासिड, एंटीइन्फ्लूएंट आदि आदि दवाइयों के ब्रान्ड नाम उनके लेने के समय उनके फायदे और नुकसान के बारे में जानने की कोशिश कर रहा था। जब लोग दिलो जान लुटा रहे थे तब मैं डॉक्टरों, दवाइयों और नर्सिग होम पर पैसे लुटा रहा था। जब नायिकाओं के विनोद पर नायकों को हॅसी आ रही थी तब मुझे खॉसी आ रही थी।

जब लोग मदिरा पीकर मस्त हो रह थे, मैं काम्पोज खाकर सुस्त हो रहा था। जिस बंसत ऋतु में कामदेव कालिदास की नायिका के प्रत्येक अंग में प्रवेश कर जाते हैं तथा ऑखों में चंचलता बनकर, कपोलों में पीलापन बनकर, कुचों में कठोरता बनकर, कमर में पतलापन बनकर तथा जॉघों में पुष्टता बनकर प्रकट होते हैं ,बिल्कुल उसी तरह मेरी बीमारी ने भी इस बसंत ऋतु में मेरे पूरे शरीर में प्रवेश कर लिया था बस, अंतर इतना था कि नायिकाओं के जिन अंगों में जिस रूप में बसंत प्रकट हो रहा था मेरे उससे भिन्न अंगों में बीमारी प्रकट हो रही थी पीलापन मेरी ऑखों में था, कठोरता पेट में थी, पतलापन कलाइयों में था और कपोलों पर रूखापन विद्यमान था।

खैर, जो हुआ, सो हुआ, जब मैं अस्पताल में वापिस आ गया हूँ तथा उसी मोनोपलिस्ट एकाधिकारवादी प्रभु से प्रार्थना है कि भविष्य में वह अपनी मति को मारी जाने से बचा ले तो बसंत को भी कुछ अपने खेल दिखाने को मौका मिले और इतनी फूल, पत्तियों, पार्क, बगीचे, नायिकाएं, उन पर आते जाते रंग उनके निरंतर विकास मान परिधान, बासंती हवाएं तथा प्रकृति का एयरकंडीशनर व्यर्थ होने से बच सकता है। गीतकारों के गीत, कवियों की कविताएं, कहानीकारों की कहानियों, ललित निबंधकारों का श्रम तथा आकाशवाणी, दूरर्दशन वालों की नौकरी बरबाद होने से बच सकती है। आखिर मितव्ययिता भी तो कोई महत्व रखती है।

मैं ये नही कहता कि बीमारी न दे और डॉक्टरों की रोजी रोटी छीन ले, पर थोड़ा वक्त और मौसम देख-दाख के दे, इतनी ही विनय है।
-----
वीरेन्द्र जैन
2/1 शालीमार स्टर्लिंग रायसेन रोड
अप्सरा टाकीज के पास भोपाल मप्र
फोन 9425674629

1 टिप्पणी:

  1. रस हीन ,हृद‌य हीन ........
    पहले तो वीरू भाई हृद्‌य हीन होकर जीया जा सकता है अगर संभव है तो होगा ही जब आप जी रहें हैं--कम से कम यह हुनर किसी और को मत सिखाना वरना मेरे जैसे डॉ० क्या करेंगे जीविका के लिये
    २ मोरे अघ सारद अनेक जुग गणत पार नहीं पावैं
    तुलसीदास प्रभु पतित पावन भरोस एहि जीए आवें
    भाई यह बैरी veri.. हटावैं

    उत्तर देंहटाएं