रविवार, मार्च 21, 2010

व्यंग्य - गडकरी का लाफ्टर चैलेन्ज शो


व्यंग्य
गडकरी का लाफ्टर चैलेंज शो
वीरेन्द्र जैन
अरे ओ हिन्दुस्तान भर के मनहूसो अगर तुम्हारे दिमाग है तो कुछ तो महसूसो। तुम्हारी मनहूसियत को मिटाने आ गया है जनाब गडकरी जी का दि ग्रेट गडकरी लाफ्टर चैलेंज शो। तुतींतींतींतींतीं तींतींतींतींतीं डमाडम डमाडम डमाडम डमाडम इसे देखने के बाद चाहे जितना हँस लो। यह देखने के बाद आपकी सारी मनहूसियत विदा हो जायेगी और हो सकता है कि आपका स्वास्थ गडकरी जी से होड़ लेने लगे। इस लाफ्टर चैलेंज शो में सम्मलित हैं लाफ्टर की दुनिया के मशहूर मारूख नवजोत सिंह सिद्धू जो बिना बात के भी हँस सकते हैं और कलाकारों के अश्लील चुटकलों को अपनी हथेली की थाप और कुर्सी पर देह को दुहरा कर उससे भी ज्यादा अश्लील बना सकते हैं जितना कि वह वास्तव में हो सकता है। अगर आपको अश्लीलता पसन्द नहीं और मारधाड़ ही पसन्द है तो वे उसमें भी पीछे नहीं है अपितु एकाध हत्या का मामला तो उन पर विचाराधीन ही है। वह भी पसन्द नहीं हो तो वो क्रिकेट खिलाड़ी भी रहे हैं और इसी लोकप्रियता को भुनाने के लिए ही तो भाजपा ने उन्हें सजा रखा है भले ही उनके कारण पार्टी की पंजाब इकाई में दनादन हो रही हो।
अगर क्रिकेट भी पसन्द नहीं तो भी हाल से बाहर जाने की ज़रूरत नहीं अभी बैठे रहिये गडकरी जी की नाटक मंडली में मनोरंजन का पूरा इंतज़ाम है। उनके पास हैं दुनिया की मशहूर नृत्यांगना और कलाकार श्रीमती..... नहीं नहीं .. सुश्री हेमा मालिनी.... अब इनका क्या परिचय दें इनका परिचय देना तो सूरज को दीपक दिखाना है। खेद है कि इनके मित्र धर्मेन्द्र जिन्होंने पार्टी के सांसद रहते हुये भी कहा था कि पार्टी ने उन्हें इमोशनली ब्लेकमेल किया अब किसी पद पर नहीं हैं और जिस दिन सुश्री हेमा मालिनी को पार्टी का उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया उसी दिन इस इमोशनली ब्लेकमेल हुये कलाकार को छोटा सा अटैक आया। कोई बात नहीं इमोशंस में सब चलता है।
अगर नृत्यांगना नहीं चाहिये, घरेलू बहू चाहिये तो वह भी इसी नाटक मंडली में ही मिलेगी। मिलिये पार्टी की सचिव स्मृति ईरानी से। अगर ईरानी नहीं हिन्दुस्तानी रानी पसन्द हैं तो वह भी हैं, श्रीमती वसुन्धरा राजे सिन्धिया जो राजस्थान में पार्टी का भट्टा बैठाने के बाद अब राष्ट्रीय स्तर पर नमूदार हो रही हैं, जिन्होंने पहले अध्यक्ष को ऐसा नाच नचवाया कि बेचारे न घर के रहे न घाट के। अगर फिर भी ग्लैमर की कमी महसूस कर रहे हों तो बता दें कि एक और टीवी कलाकार वाणी त्रिपाठी भी हैं। क्या कह रहे हैं आप कि ऎंग्री यंग मैन के बिना कहानी में मज़ा नहीं आता तो दुखी न हों गडकरी की मन्डली में वरुण गांधी हैं जो अपनी माँ के पशु प्रेम के कारण धर्मेन्दरजी की तरह किसी कुत्ते का खून पीने में भरोसा नहीं करते अपितु केवल हाथ काट देने की धमकी देते हैं। वैसे कलाकारों की कमी तो पहले भी नहीं थी और ज़रूरत पड़ने पर विनोद खन्ना, शत्रुघन सिन्हा, दारा सिंह, नीतीश भारद्वाज, दीपिका चिखलिया, अरविन्द त्रिवेदी, आदि मेहमान कलाकारों की भूमिका निभाने वाले पहले से ही मौजूद हैं, सो जहाँ भीड़ जुटाना होगी सो जुटा फैंकेंगे। कुल दस प्रतिशत वोट बढाने का ही तो वादा किया है, और अब तो अमिताभजी भी मोदीजी के सम्पर्क में हैं।
यह हिन्दी पट्टी वालों की फिल्म कम्पनी है इसलिये दक्षिण के कलाकारों को कम जगह मिली है वैसे भी दक्षिण में जिस व्यापारी से अनैतिक समझौता करके सत्ता हथियाई थी वह संसद में विपक्ष की नेता का कृपापात्र है सो उसने ऐसा कोड़ा फटकारा कि येदुरप्पा को शोभाहीन कर दिया। ऐसा लगता है कि यह मंडली आम सभाओं में भीड़ खूब जुटायेगी क्योंकि मुलायम मंडली में से ठाकुर अमर सिंह के साथ जयाप्रदा, जया बच्चन, और संजय दत्त के निकल जाने के बाद पहलवान की यादव डेयरी बची है सो मनोरंजन के लिये सबको इस रामलीला नाटक मंडली का ही सहारा मिलेगा। मंथरा भी अपना रास्ता बना चुकी हैं बस चुपचाप मौके की तलाश में हैं सो पहला शो मध्य प्रदेश में ही होगा।
वीरेन्द्र जैन
2/1 शालीमार स्टर्लिंग रायसेन रोड
अप्सरा टाकीज के पास भोपाल मप्र
फोन 9425674629

5 टिप्‍पणियां:

  1. एक अच्छे व्यन्गकार को सन्कीर्ण राजनीतिक सोच से ऊपर होना चाहिये. आप इस तरग के लेखो से निराश करते है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कभी कभी नेहरू फैलिमी एंड कंपनी के बारे में भी कुछ लिखिए. जो तीन-तीन अर्थ-त्रिमूर्तियों की मौजूदगी में आम आदमी को खून के आंसू रूला रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे नहीं!! ..

    हिन्दी में विशिष्ट लेखन का आपका योगदान सराहनीय है. आपको साधुवाद!!

    लेखन के साथ साथ प्रतिभा प्रोत्साहन हेतु टिप्पणी करना आपका कर्तव्य है एवं भाषा के प्रचार प्रसार हेतु अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें. यह एक निवेदन मात्र है.

    अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शोभनं...... वेरी नाइस- डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं