गुरुवार, जुलाई 09, 2009

नीरज का गीत और समलेंगिकिता

सम्लेंगिकिता और नीरज
इन दिनों सम्लेंगिकिता पर चल रही बहस से याद आया की १९६७ के दौरान हिंदी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवि नीरजजी का गीत फिल्म नयी उम्र की नई फसल में आया था जिस के बोल थे - बस यही अपराध में हर बार करता हूँ . आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ . - तब हम लोग कालेज में पढ़ते थे और आपस में मजाक किया करते थे कि यह तो सम्लेंगिकिता के समर्थन का गीत है

5 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी जानकारी के अनुसार यह "पहचान" (1970) फ़िल्म का गीत है, मनोजकुमार पर फ़िल्माया हुआ… गाया है मुकेश ने…

    उत्तर देंहटाएं
  2. नई उमर की नई फ़सल का गीत है "स्वप्न झरे फ़ूल से, मीत चुभे शूल से………… और हम खड़े-खड़े गुबार देखते रहे…"

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके संशोधन के लिए धन्यवाद् अब इतने साल बाद कहाँ याद रहता है कि फिल्म का नाम क्या था और वह मूल विषय भी नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  4. फि्ल्म का नाम और सन तो ठीक कर ही दिजिये पोस्ट में. :)

    उत्तर देंहटाएं